जो आज बहार है कभी पतझड़ था वो…

Spread the love

शैलेन्द्र ‘उज्जैनी’ [email protected]

हर एक बात पर इतना क्यों अकड़ रहा है वो,

 टूटा हुआ है अंदर से ज़र्रा-ज़र्रा झड़ रहा है वो।

 *************

 इतनी गहराई से कहाँ पढ़ते हैं किसी को लोग,

 मेरी ग़ज़ल के पीछे की ग़ज़ल भी पढ़ रहा है वो।

*************

 जिस लोहे से तुमने हथियार बनाए हैं ना यारो,

 उसी लोहे से बैठा ख़ुदा की मूरत गढ रहा है वो।

*************

 उसकी मुस्कुराहट देखकर महसूस होता तो है,

 जो आज बहार है कभी पतझड़ रहा है वो…।

*************

 लगता है घर का माहौल कुछ ठीक नहीं उसके,

 राह चलते बात-बात पर झगड़ रहा है वो…।

*************

 शाम का वक्त है ख्यालों के दरिया किनारे होगा,

 वो देखो “उज्जैनी” नया विचार पकड़ रहा है वो।

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
READ  न्याय की देवी...अब तो खोलो आँखों की ये पट्टी!
Do NOT follow this link or you will be banned from the site! © Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: