बिन कहे सब जान जाती है वो…

Spread the love

शैलेन्द्र “उज्जैनी” [email protected]

 

कभी जिसको देखा नहीं आराम करते हुए मैंने,
मगर देखा सबका खयाल रखते हुए मैंने।

सबको नये कपड़े दिलाकर खुश हो जाना,
सालो देखा सी एक सी पुरानी साड़ी को उसे पहने हुए मैंने।

पिता जब गुस्से में आए हम पर तमतमाए कभी,
हमेशा पाया सामने ढाल बनकर खड़े हुए मैंने।

मुझे तकलीफ क्या है मैं क्यों मायूस हूँ बैठा,
बिन कहे ही उस अनपढ़ को पाया मुझे पढ़ते हुए मैंने।

संडे सबका आता है पर माँ का नही आया,
उसे देखा निरंतर ही नदी सा बहते हुए मैंने।

कभी जीवन मे ख़ुदा दिखे ना दिखे मुझे,
मगर उस देवी को रोज देखा पूजा करते हुए मैंने।

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
READ  छोटी-छोटी कमियों से दुखी होनेवाले लोग एक बार स्टीफेन हॉकिंग के बारे में जरूर जानें
© Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: