इस मकर संक्रांति में मिठास भरें सूजी तिल की मीठी मठरी से

Spread the love

मकर संक्रांति के मौके पर तिल के बने सामन खाने का रिवाज है. ऐसे समय में जब मौसम में बदलाव हो रहा होता है तिल खाना सेहत के लिए भी काफी अच्छा होता है. इस मकर संक्रांति के ख़ास मौके के लिए हम आपको यहाँ तिल से बनने वाली एक बेहद आसान रेसिपी बता रहे हैं सूजी तिल मीठी मठरी. बच्चों स‌े लेकर बड़ों तक स‌भी को यह बहुत पसंद आती हैं और जब आपका मीठा खाने का मन करें, तब  आप इसे बनाएं और परिवार के साथ इसके  स्वाद का मजा लीजिए.

आवश्यक सामग्री – Ingredients for Rava Meethi Mathri Recipe 

सूजी – 1 कप (200 ग्राम)

गेहूं का आटा – ¼ कप से थोड़ा ज्यादा (50 ग्राम)

चीनी पाउडर – ½ कप (75 ग्राम)

तेल – ⅓ कप

दूध – ½ कप

इलायची – 4 (पाउडर)

तिल – 1 टेबल स्पून

तेल – तलने के लिए

विधि – How to make Rava Meethi Mathri Recipe

किसी बर्तन में सूजी निकाल लीजिये, इसमें गेहूं का आटा, तिल, इलायची पाउडर डालकर सभी चीजों को अच्छे से मिक्स कर लीजिए. मिश्रण में हल्का गरम दूध थोड़ा-थोड़ा डालते हुए नरम आटा गूंथकर तैयार कर लीजिए (इतना आटा गूंथने में 1/2 कप दूध में 1 टेबल स्पून दूध बच गया है). गूंथे हुए आटे को ढककर के 15 -20 मिनिट के लिए रख दीजिए आटा सैट होकर तैयार हो जाएगा.

15 मिनिट बाद गूंथे हुए आटे को अच्छी तरह से मसल-मसलकर चिकना कर लीजिए.

बोर्ड जिस पर मठरी बेलनी है उसे थोड़ा तेल लगाकर चिकना कर लीजिए. इस तैयार किए हुए आटे को दो भाग में बांट लीजिए और आधे भाग को बोर्ड पर रख दिजिए और बचे हुए आटे को ढक कर के रख दीजिए.

READ  बिन कहे सब जान जाती है वो...

बोर्ड पर रखे आटे को गोल कीजिए और इसे बेलन की मदद से 1/4 सेमी की मोटाई में बेल लीजिए. अब इसे कुकिंग कट्र या किसी भी गोल ढक्कन की मदद से इसे काट लीजिए. अब इन्हें फोर्क की मदद से फोर्क कर लीजिए. इन्हें दोनों ओर से फोर्क कर लीजिए. बचे हुए आटे से भी इसी तरह से मठरी बना कर तैयार कर लीजिए.

कढ़ाई में तेल डालकर गरम होने के लिए रख दीजिए, मठरी तलने के लिए कम गरम तेल होना चाहिए और गैस भी धीमी-मध्यम ही होनी चाहिए. तेल ठीक से गरम हुआ है या नहीं इसे चैक करने के लिए थोड़ा सा आटा तेल में डाल कर देखें आटा सिक रहा है. तेल गरम है मठरियों को तेल  में डाल दीजिए और सिकने दीजिए.

धीमी- मीडियम आंच पर इनको पलट-पलट कर दोनो और से गोल्डन ब्राउन होने तक तल लीजिए.  तली गई मठरियों को प्लेट में निकालकर रख लीजिए. इसी तरह बाकी की बची हुई सारी मठरियां तलकर निकाल लीजिए और एक बार की मठरियां तलने में 4 से 5 मिनिट का समय लग जाता है. इतने मैदा में लगभग 25 मठरियां बनकर तैयार हो जाती हैं.

सूजी की मीठी क्रिस्पी मठरी बनकर तैयार है. आप इन्हें सर्व कर सकते हैं.  मठरियों के पूरी तरह से ठंडा होने के बाद इन्हें कंटेनर में भरकर रख दीजिए और जब आपका मन करे, मठरी निकालें और खाएं. यह मठरी 1 महिने तक उपयोग में लाई जा सकती है.

[amazon_link asins=’B079WWFJMG,B07MP3BDZX,B07DZDLH1D,B077DTMNP6′ template=’ProductGrid’ store=’wordtoword-21′ marketplace=’IN’ link_id=’bab4fa77-14a6-11e9-a597-fb1e7686f5de’]

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
© Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: