जो बुरे वक्त में काम आये वही मेरा पैगम्बर है | कविता

जितना मेरी आँखो में है बस उतना मंज़र मेरा है, मेरे लोटे में आ जाए बस उतना समंदर मेरा है।

Read more

मैं…

मैं …मैं राहगीर हूँ, तो राह भी मैं ही हूँ. मैं श्रमिक हूँ, तो श्रम भी मैं ही हूँ. मैं

Read more

सिर्फ इशारे क्यों दिल भी दो ना

प्रशान्त आर्यवंशी [email protected]   अब गरीबों से बात कौन करता है ! वो शाह लोग हैं.. मुलाकात कौन करता है

Read more
© Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®