इटली में भूस्खलन से बहा कब्रिस्तान, समुद्र में तैरने लगे सैकड़ों ताबूत

Spread the love

इटली (Italy) में भूमध्यसागर (Mediterranean Sea) के करीब स्थित कैमोगली (Camogli) में एक भयावह हादसा हुआ है. यहां समुद्र के किनारे स्थित एक चट्टान पर बना कब्रिस्तान (Cemetery) भूस्खलन (Landslide) के चलते समुद्र में गिर गया. इसके चलते ताबूत (Coffins) भूमध्यसागर में बहने लगे. वहीं, इस बात का अंदेशा है कि कई ताबूत मलबे में दब गए हैं. कैमोगली इटली के उत्तर-पश्चिम शहर जेनोआ (Genoa) में स्थित है. यहां एक टूरिस्ट रिजोर्ट भी है, जिस कारण बड़ी संख्या में लोग यहां घूमने के लिए पहुंचते हैं.

कैमोगली में ये हादसा स्थानीय समय के मुताबिक तीन बजे हुआ, जब यहां भूस्खलन आ गया. इसके चलते भूमध्यसागर के किनारे एक खड़ी चट्टान पर बना कब्रिस्तान भरभराकर गिरने लगा. इस दौरान 200 के करीब ताबूत चट्टान से नीचे गिरने लगे. वहीं, कब्रिस्तान में बने दो चैपल (छोटा प्रार्थना घर) भी इस हादसे का शिकार हो गए. हादसे के बाद की तस्वीरों में पता चला कि चट्टान का एक बड़ा हिस्सा समुद्र में दफन हो चुका है. इस कारण मलबा और सैकड़ों ताबूत समुद्र में बह रहे हैं.

तटीय कटाव बना भूस्खलन की वजह

बचाव कर्मी जितना हो सके उतने ताबूतों को बचाने में जुटे हुए हैं. यहां दफनाए गए लोगों के रिश्तेदारों के बीच अपने करीबी लोगों के ताबूतों को लेकर चिंता का माहौल है. स्थानीय रिपोर्टों में बताया गया है कि भूस्खलन तटीय कटाव का नतीजा है. ये कटाव हाल ही में इतालवी रिवेरा के रूप में जाना जाने वाले लिगुरिया (Liguria) के भूमध्य क्षेत्र में तूफानों के चलते पैदा हुआ था. यहां रहने वाले लोगों ने बताया कि भूस्खलन की आवाज को घरों से सुना जा सकता था.

READ  क्यों सऊदी अरब ने छेड़ा है प्राइस वार जिससे घट रही है तेल की कीमत

लोगों के भीतर घटना को लेकर गुस्सा

इस घटना को लेकर कुछ लोगों में खासी नाराजगी भी है. दरअसल, इनका कहना है कि अब उन्होंने अपने चाहने वालों का ताबूत इस घटना में खो दिया है. उन्होंने कहा कि कब्रिस्तान के खतरे वाले हिस्सों से ताबूतों को हटाने को लेकर बेहद ही कम काम हुआ, जिसके चलते अब ताबूत समुद्र में दफन हो गए हैं. पामेला नाम की एक महिला ने बताया कि मेरे पांव कंपकपा रहे हैं, क्योंकि ऐसा लग रहा है जैसे मेरे मृत पिता फिर से मर गए हैं. एक व्यक्ति ने आरोप लगाया कि कब्रिस्तान के कुछ हिस्सों को लगातार बेचा जा रहा था, लेकिन इस घटना के बाद वो भी समुद्र में मिल गया है.

150 साल पुराना है कब्रिस्तान

कैमोगली में बना ये कब्रिस्तान 150 साल पुराना है. चट्टान पर होने की वजह से इसे मजबूत करने के लिए काफी दिनों से काम चल रहा था. मगर भूस्खलन एक ऐसी घटना है, जिसे आप पहले से नहीं भांप सकते हैं. कब्रिस्तान का ज्यादातर वो हिस्सा गिरा है, जो समुद्र के बेहद करीब था. इसका मतलब ये है कि ज्यादातर ताबूत भूस्खलन के चलते मलबे के भीतर ही दफन हो गए हैं. राहत की बात ये है कि इस घटना में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है.

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
Do NOT follow this link or you will be banned from the site! © Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: