द्वितीय विश्वयुद्ध का बम डिफ्यूज करने की कोशिश में फटा, वीडियो में देखिए ब्लास्ट का नजारा

Spread the love

पोलैंड में दूसरे विश्व युद्ध के समय गिराया गया सबसे बड़ा बम डिफ्यूज करते समय फट गया है. अच्छी बात यह है कि इस हादसे में किसी के हताहत होने की जानकारी नहीं है. इस बम को ‘Earthquake’ के नाम से भी जाना जाता है. पोलैंड की नौसेना के गोताखोर मंगलवार को पानी के अंदर बम डिफ्यूज करने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन इससे पहले कि वह अपने मिशन में कामयाब हो पाते बम फट गया. गनीमत रही कि इस हादसे में कोई घायल नहीं हुआ.

ब्रिटिश एयर फोर्स ने गिराया था

ब्रिटेन की रॉयल एयर फोर्स (आरएएफ) द्वारा इस्तेमाल किया गया टॉलबॉय बम स्वाइनजॉस्की शहर के बाहर पाइस्ट नहर के करीब मिला था. बम डिफ्यूज करने से पहले एहतियात के तौर पर पूरा इलाका खाली करा लिया गया था. 750 से अधिक लोगों को यहां से किसी दूसरे स्थान पर ले जाया गया था. Swinoujscie एक जमाने में जर्मनी का हिस्सा हुआ करता था.

दूर तक महसूस किये झटके
धमाका इतना जोरदार था कि स्वाइनजॉस्की के कुछ हिस्सों में झटके महसूस किये गए. बम का वजन लगभग 5,400 किलोग्राम था और इसमें 2,400 किलोग्राम विस्फोटक भरा हुआ था. पोलैंड की नौसेना ने दूसरे युद्ध के सबसे बड़े बम को निष्क्रिय करने के लिए रिमोट-नियंत्रित डिवाइस का इस्तेमाल किया. यह एक ऐसी तकनीक है जिसमें विस्फोट के बिना बम को डिफ्यूज किया जा सकता है. हालांकि, इस तकनीक ने इस बार कम नहीं किया.

READ  सलमान को इन खूंखार भेड़ियों से लड़ते देख रोंगटे खड़े हो जायेंगे आपके

पिछले साल मिला था 
ब्रिटिश एयरोनॉटिकल इंजीनियर बार्न्स वॉलेस (Barnes Wallace) द्वारा डिजाइन की गई इस 19 फीट, 12,000LB वाली डिवाइस को ‘टॉलबॉय’ और ‘Earthquake’ बम जैसे नामों से भी पहचाना जाता है. यह बम पिछले साल सितंबर में पानी के नीचे उस वक्त मिला था जब जलमार्ग को गहरा करने का काम चल रहा था. इस बम को ब्रिटेन की रॉयल एयर फोर्स ने 1945 में में जर्मन क्रूजर लुत्ज़ो पर हमले के दौरान गिराया था.

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
Do NOT follow this link or you will be banned from the site! © Word To Word 2019 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: