जो बुरे वक्त में काम आये वही मेरा पैगम्बर है | कविता

Spread the love

शैलेन्द्र “उज्जैनी” [email protected]

जितना मेरी आँखो में है बस उतना मंज़र मेरा है,

मेरे लोटे में आ जाए बस उतना समंदर मेरा है।

कातिल वातिल मुज़रिम वुज़रिम ये बस दुनिया जाने,

मेरा जिससे कत्ल हुआ है बस वो खंज़र मेरा है।

ईश्वर-विश्वर मंदिर-वंदिर तुम सब जाते रहना,  

जो बुरे वक्त में काम आ गया बस वो पैग्म्बर मेरा है।

हर बात को खुल के कहना सबके बस की बात नहीं

ये हिम्मत “उज्जैनी” की है ओर ये तेवर मेरा है।

***

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
READ  ग़ज़ल : इस आशिकी को मौत से भी ठान लेने दो | राजीव रंजन झा
Do NOT follow this link or you will be banned from the site! © Word To Word 2019 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: