कभी देखी है भीमकाय मक्खी, नहीं तो यहाँ देखिये

Spread the love

दुनिया की सबसे बड़ी मक्खी को खोज लिया गया है. इसका आकार एक इंसान के अंगूठे जितना बड़ा है. दशकों पहले ये मक्खी गायब हो गई थी और अब इसे इंडोनेशिया के आईलैंड में पाया गया है.  साल 2012 में दक्षिण भारतीय फ़िल्म मक्खी रिलीज़ हुई थी इस फ़िल्म का मुख्य किरदार एक ऐसी मक्खी थी जो साधारण मक्खियों से अलग है. यह मक्खी भी कुछ ऐसी ही है. लंबे वक़्त से जारी खोज के बाद अब जंगल विभाग के जानकारों को इस प्रजाति की अकेली ज़िंदा मादा मक्खी मिली है. इसका नाम ‘वैलेस-जाइंट बी’ है. इसका नाम प्रकृतिवादी और खोजकर्ता रसेल वैलेस के नाम पर रखा गया है.1981 में कई वैज्ञानिकों ने इस मक्खी के स्रपैसिमेन को देखा था और उसके बाद इस प्रजाति को नहीं देखा गया.

इस साल जनवरी में जानकारों की एक टीम इंडोनेशिया के जंगलों में इस मक्खी की खोज में निकली.

खोजकर्ताओं के लिए यह बिलकुल हैरान करने वाला था, असल में उन्हें लगता था कि ये प्रजाति अब विलुप्त हो चुकी है. लेकिन जब यह उन्हें दिखी तब वे इतनी ख़ूबसूरत और बड़ी मक्खी को देखकर हैरान रह गये. जब ये उड़ती है तो इसके पंखों की तेज़ आवाज़ भी सुनाई देती है.

वैलेस मक्खी में क्या खास है?

  • लगभग ढाई इंच (6 सेमी) के पंखों के साथ ‘वैलेस- जाइंट बी’ दुनिया की सबसे बड़ी मक्खी है.
  • ये मादा मक्खी दीमक के टीले में अपना घोंसला बनाती है, दीमक से बचाने के लिए ये अपने बड़े जबड़ों का इस्तेमाल कर ये पेड़ से निकलने वाले चिपचिपे पदार्थ को इकट्ठा करती है और इससे अपने घोंसले की हिफ़ाज़त करती है.
  • ये तराई इलाकों के जंगलों में पायी जाती है.
  • वैलेस ने चार्ल्स डार्विन के साथ ‘इवॉल्यूशन के सिद्धांत’ पर काम किया था, उन्होंने इस मक्खी के बारे में बताया था कि ये ‘एक बड़े काले हड्डे जैसे कीड़े की तरह है जिसके जबड़े बेहद बड़े हैं.’
READ  यहाँ लोग करते हैं बुलेट मोटरबाइक की पूजा

ये मक्खी इंडोनेशिया के उत्तरी मॉल्यूकश आईलैंड पर पाई गई है. उम्मीद है कि इस क्षेत्र के जंगलों में कई ऐसी कीड़ों की प्रजातियां मिल जाएं जो दुनिया से लगभग विलुप्त होने की कागार पर हैं. वर्तमान समय में ऐसे कीड़ों के व्यापार के लिए कोई क़ानूनी सुरक्षा नहीं है. पर्यावरण समूह ग्लोबूल वाइल्ड लाइफ़ कंज़र्वेशन ने विलुप्त प्रजातियों’ की खोज के लिए एक अभियान चलाया है और ये खोज इसी अभियान का हिस्सा है.

 

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
© Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: