बिना किसी गुनाह मार दिए जायेंगे 6 लेब्राडोर कुत्ते, ये है वजह

Spread the love

स्वीडिश प्रयोगशाला में छह लैब्राडोर डॉग को मारने की योजना बनाई जा रही है। इस महीने के आखिर तक इन्हें मार दिया जाएगा। बेशक ये बात सुनकर मन में सवाल उठेगा कि आखिर इन बेजुबानों को क्यों मारा जा रहा है? जवाब है- डेंटल इंप्लांट टेस्टिंग के लिए।

जी हां, एक स्वीडिश प्रयोगशाला में डेंटल प्रत्यारोपण के मेडिकल ट्रायल के लिए छह लैब्राडोर डॉग मार दिए जाएंगे। इन कुत्तों के नाम हैं- वीनस, मिलिया, मिमोसा, लूना, लोटस और जुरी। दो साल के इन बेजुबान जानवरों को गोथेनबर्ग विश्वविद्यालय में मारा जाएगा ताकि शोधकर्ता परीक्षण कर सकें कि प्रत्यारोपण किस तरह हड्डियों और ऊतकों को बदलता है। परीक्षण के हिस्से के तौर पर हर लैब्राडोर कुत्ते के एक तिहाई दांतों को पूरी तरह से हटा दिया गया है ताकि डेंटल इंप्लांट किया जा सके। कुत्तों पर की जा रही इस क्रूरता को लेकर स्वीडिश मीडिया में कई खबरें छाई हुई हैं।.

शोध से जुड़े डिप्टी वाइस चांसलर गोरान लैंडबर्ग का कहना है कि इन मुद्दों पर आम सहमति तक पहुंचना बेहद मुश्किल है। नई दवा बनाने, उपचार की पद्धति विकसित करने और उसकी मूलभूत जानकारी हासिल करने के लिए कुछ शोधमें जानवरों पर परीक्षण करने की जरूरत होती है।.

क्या कहता है स्वीडिश कानून : स्वीडिश कानून के तहत जानवरों पर परीक्षण की अनुमति तभी मिलती है जब शोधकर्ता यह साबित कर दें कि जानकारी हासिल करने का यह एकमात्र तरीका है। विश्वविद्यालय ने इसके लिए अनुमति ले ली है और कहा है कि कुशल शोधकर्ताओं की टीम रिसर्च को अंजाम देगी। वहीं एनिमल राइट्स एलायंस ने अपनी जांच में आरोप लगाया कि ‘वीनस’ डॉग की कोहनी पर इलाज किया जा रहा है। यह भी कहा गया है कि कुत्ते को बिल्कुल ठंडे कमरे में रखा गया। बता दें कि डेंटल टेस्ट के लिए इन कुत्तों को इसलिए चुना गया था क्योंकि इनके थूक और ओरल बैक्टीरिया काफी हद तक इंसानों से मेल खाते हैं। इससे सटीक परीक्षण करना आसान होगा।

READ  आपकी किस्मत बदल कर रख देगी आपकी रसोई में बनी ये रोटी

विश्वविद्यालय ने अनुमति ले ली है, कुशल शोधकर्ताओं की टीम रिसर्च को अंजाम देगी। टेस्टिंग के हिस्से के तौर पर हर लैब्राडोर डॉग के एक तिहाई दांतों को पूरी तरह हटा दिया गया है।

स्वीडिश मीडिया में इन कुत्तों को मारे जाने को घृणित कृत्य बताते हुए खूब उछाला जा रहा है। एक वेटेनरी डॉक्टर मार्क कोलिंस ने आरोप लगाया है कि कुत्तों के ऊपर कई प्रकार के प्रयोग किए जा रहे हैं और उन्हें काफी दर्द से गुजरना पड़ रहा है। मार्क का आरोप है कि दांतों के इंप्लांट के अलावा उनके शरीर के बाकी हिस्सों पर भी सर्जरी की जा रही है। मार्क ने कहा कि कुत्तों के दांत निकालने में काफी ताकत लगानी पड़ती है और जिस तरह से इन कुत्तों के दांत निकाले गए हैं उससे ये कुत्ते भावनात्मक तौर पर पूरी तरह से टूट चुके हैं। .

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
© Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: