भारतीय सिनेमा की शुरुआत से अब तक के सफ़र को एक साथ देखिये यहाँ

Spread the love

श्याम बेनेगल की अध्यक्षता में संग्रहालय सलाहकार समिति के मार्गदर्शन में तैयार हुए ‘नेशनल म्यूज़ियम ऑफ इंडियन सिनेमा’ को बनाने में क़रीब 142 करोड़ रुपये की लागत आई है. म्यूज़ियम के निर्माण का काम पिछले चार साल से चल रहा था. पिछले दिनों माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के द्वारा इस संग्रहालय का उदघाटन हुआ है. यह संग्रहालय दो इमारतों ‘नवीन संग्रहालय भवन’ और 19वीं शताब्दी के ऐतिहासिक महल ‘गुलशन महल’ में स्थित है. दोनों इमारतें मुंबई में फिल्म प्रभाग परिसर में हैं.

संग्रहालय की शुरुआत राजा हरिश्चंद्र से होती है. राजा हरिश्चंद्र 1913 में बनी थी. इसे पहली भारतीय फ़ीचर फ़िल्म माना जाता है. नवीन संग्रहालय भवन में चार प्रदर्शनी हॉल हैं. सबसे पहला गांधी और सिनेमा हॉल, दूसरा बाल फिल्म स्टूडियो, तीसरा प्रौद्योगिकी-रचनात्मकता और चौथा भारतीय सिनेमा.  गुलशन महल जितना बाहर से सुंदर है उतना ही ख़ूबसूरत अंदर से भी है.

इस चार मंज़िला इमारत में कई अनूठी चीज़ें देखने को मिलेंगी. शुरुआत भारत की पहली फ़िल्म राजा हरिश्चंद्र से की गई है. इस फ़िल्म के रील के माध्यम ये बताने की कोशिश की गई है कि देश की पहली फ़िल्म कैसे बनी. उस वक़्त क्या मुश्किलें थीं, किस तरह के कैमरा का इस्तेमाल होता था.

राजकपूर के स्टेच्यू से लेकर कई अद्भुत तस्वीरें भी

संग्रहालय में विज़ुअल, ग्राफ़िक्स, शिल्प और मल्टीमीडिया प्रस्तुतिकरण के ज़रिए एक सदी से अधिक पुराने इतिहास की जानकारी देने की कोशिश की गई है. इस म्यूज़ियम में पहले के समय में फ़िल्म को शूट करने वाले कैमरा से लेकर बदलते दौर की टेक्नोलॉजी भी देखने को मिलेगी. म्यूज़ियम में अभिनेता राजकपूर का स्टेच्यू कैमरा चलाते हुए दिखेगा. राजकपूर के अलावा कई और अनुभवी कलाकारों, निर्माताओं-निर्देशकों की तस्वीरें, उनका पूरा इतिहास, कई बेहतरीन फ़िल्में और उन फ़िल्मों के पीछे की कहानी और दूसरे अहम पहलू भी यहाँ आपको देखने को मिलेंगे.

READ  सुनैना को लेकर कंगना ने तोडी चुप्पी, जानिए क्या कुछ कहा कंगना ने

बच्चों को मिलेगा एक्टिंग करने का मौका

गुलशन महल में भारतीय सिनेमा के 100 वर्ष से अधिक की यात्रा को दिखाने की कोशिश की गई है. इसे 9 वर्गों में बांटा गया है. सिनेमा की उत्पत्ति, भारत में सिनेमा का आगमन, भारतीय मूक फ़िल्म, ध्वनि की शुरूआत, स्टूडियो युग, द्वितीय विश्व युद्ध का प्रभाव, रचनात्मक जीवंतता, न्यू वेब और उसके बाद क्षेत्रीय सिनेमा सब कुछ यहां एक क्रम में देखने को मिलेगा. गुलशन महल बड़ों के साथ-साथ बच्चों को भी पसंद आएगा. बच्चों की पसंद का ध्यान रखते हुए यहां एनिमेशन फ़िल्में और उनसे जुड़ी कई रोचक चीज़ें भी मौजूद हैं. यहां महात्मा गांधी के जीवन पर बनी फिल्में भी दिखाई जाएंगी. इसके साथ सिनेमा पर उनके जीवन के गहरे प्रभाव को भी दिखाया जाएगा.

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
© Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: