स्कूल में शकीरा को सब कहते थे ‘तुम्हारी आवाज बकरी जैसी है’

Spread the love

मशहूर लातिन अमेरिकी गायिका शकीरा का आज जन्मदिन हैं. इनके गीतों में पूरब और पश्चिम की संगीत संस्कृतियों का मिलन होता है.

शकीरा का जन्म कोलंबिया में 2 फरवरी 1977 को हुआ. उन्होंने अब तक दो ग्रैमी खिताब के आलावा सैंकड़ों और पुरस्कार जीते हैं. उन्हें गोल्डन ग्लोब एवार्ड्स के लिए भी नामांकित किया गया है. उनके गीत “वेनेवर, वेरेवर” और “हिप्स डोंट लाई” जैसे गीतों के लिए जाना जाता है. 2010 के विश्व कप का गाना “वाका वाका” भी शकीरा ने ही गाया है.

शकीरा का पूरा नाम शकीरा इसाबेल मेबारक रिपोल है. उनके पिता लेबनान के हैं और उनकी मां कोलंबिया की हैं. शकीरा ने अपने जिंदगी के शुरुआती साल कोलंबिया के तटीय शहर बारांकीया में बिताया है. उन्होंने अपना पहला गीत आठ साल की उम्र में लिखा और 13 साल की होने पर एक संगीत कंपनी के साथ अपना पहला समझौता भी किया. बचपन से ही शकीरा को अरबी संगीत और नृत्य का शौक था. माना जाता है कि उनके पिता उन्हें एक बार कोलंबिया में एक अरबी रेस्तरां लेकर गए जहां शकीरा ने पहली बार अरबी ढोल सुने. चार साल की शकीरा को तभी से अरबी बेली डांस से प्यार हो गया. आज भी उनके म्यूजिक वीडियो में उन्हें बेली डांस करते देखा जा सकता है.

शकीरा को  अपनी सफलता के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ा है. स्कूल में उनके अध्यापकों का मानना था कि उनकी आवाज बकरियों के मिमियाने जैसी है. उन्हें स्कूल क्वायर से अलग कर दिया गया. 14 साल की उम्र में उन्होंने अपना पहला म्यजिक एल्बम रिकॉर्ड किया. कोलंबिया के रेडियो स्टेशन में इसे खूब पसंद किया गया और लोग शकीरा को पहचानने लगे, लेकिन इसके अलावा एल्बम को किसी तरह की सफलता नहीं मिली.

READ  फेसबुक को अपना मोबाइल नंबर देना हो सकता है कितना खतरनाक, यहाँ जानिए

1995 में जाकर उनके स्पेनी भाषा के एल्बम पीस देस्कालसोस को सफलता मिली और उन्हें लैटिन ग्रैमी से सम्मानित किया गया. लेकिन 2001 में अपने गीत वेनेवर वेरेवर से वह दुनिया भर में सफल हो गईं और अपना नाम एक दमदार संगीतकार के तौर पर बनाया. यहाँ देखिये यह गाना –

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
© Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: