रोमियो को मिल गई उसकी जूलियट

Spread the love

रोमियो जूलियट, हीर रांझा, सोणी महीवाल के किस्से आपने भी खूब चाव से पढ़े और सुने होंगे. लेकिन इन प्रेम कहानियों का अंत काफी दुखद रहा है और प्रेमी को दुनिया उसकी प्रेमिका से मिलने नहीं देती. लेकिन करीब दस साल की मेहनत के बाद आखिरकार संरक्षकों ने दुर्लभ बोलिवियाई मेंढक रोमियो के लिए एक सदाबहार जंगल के अंदरूनी इलाके से जूलियट को ढूंढ निकाला जो उसी प्रजाति की है.

रोमियो नाम का यह मेंढक 10 साल से तन्हाई में जी रहा था. जीव संरक्षकों ने इस प्रजाति को विलुप्त होने से बचाने के लिए रोमियो की जूलियट से मुलाकात कराने की गुहार लगाई थी. वन्यजीव संरक्षकों का दल काफी खोज करने के बाद ना सिर्फ जूलियट बल्कि चार और सदस्यों को भी अपने साथ लाने में कामयाब हुए हैं. इस कोशिश से अब मेंढकों की इस प्रजाति के बचने की उम्मीदें बढ़ गई हैं.

ग्लोबल वाइल्डलाइफ कंजर्वेशन और बोलिविया की नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम की संयुक्त टीम ने पिछले दशक में कई बार बोलिविया के जंगलों में इन मेंढकों को ढूंढने की कोशिश की लेकिन उन्हें हर बार नाकामी ही हाथ लगी. पिछले साल वेलेंटाइन डे के मौके पर इसे मेंढक को बचाने की अपील की गई और उसके बाद इसके लिए धन भी जमा हो गया. वन्यजीव संरक्षकों की टीम ने एक बार फिर कोशिश की और अगले वेलेंटाइन डे से पहले आखिरकार जूलियट को ढूंढ निकाला.

जूलियट

रोमियो को भी इन्हीं जंगलों में एक दशक पहले तलाश किया गया था और माना जा रहा था कि वह अपनी प्रजाति का अकेला जीवित मेंढक है. मेंढकों की आयु 15 साल होती है और बहुत वक्त निकल गया था. इसके साथ ही इन्हें बचाने की उम्मीद भी धुंधली पड़ने लगी थी. हालांकि रोमियो ने उम्मीद नहीं छोड़ी थी और वह 10 साल से लगातार अपनी जूलियट के लिए पुकार लगा रहा था.

READ  खुद में चुम्बकीय पावर लाने के लिए इस बच्चे ने जो किया उसे देखकर सब रह गए हैरान

लेकिन अब वैज्ञानिक इनके प्रजनन की कोशिश में लगे हैं, साथ ही उस इलाके में खोज को और तेज कर दिया गया है ताकि पता लगा सकें कि क्या और भी मेंढक बचे हुए हैं, अगर हां तो कितने. वो कहां हैं क्या उन्हें भी कोई खतरा है. इन दोनों मेंढकों को नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम के एक खास हिस्से में अलग से रखा गया है. इनके लिए वैसा ही वातावरण पैदा करने की कोशिश की गई है जैसा कि जंगल में उन्हें प्राकृतिक रूप से मिलता था. फिलहाल जंगल से आए मेंढकों का डॉक्टर परीक्षण कर देखेंगे कि उन्हें कोई संक्रामक रोग तो नहीं है जिनकी वजह से उनकी संख्या में इतनी तेजी से गिरावट आई. इन परीक्षणों से गुजरने के बाद ही रोमियो जूलियट की असली मुलाकात होगी.

[amazon_link asins=’B01L5C8RQ0,B01GRI6Q3I,B014UQMB4M,B01KHZXY96′ template=’ProductGrid’ store=’wordtoword-21′ marketplace=’IN’ link_id=’2f5eecad-f27d-4fde-9094-72e1fbc4fbaa’]

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
© Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: