ऑस्कर जीतने वाली पहली एशियन फिल्म पैरासाइट की पूरी कहानी पढ़िए यहां

Spread the love

साउथ कोरियन फिल्‍म ‘पैरासाइट’ ने धमाल मचा दिया है. इस फिल्‍म को ‘ऑस्‍कर 2020’ में ‘बेस्‍ट फिल्‍म’ साहित 4 अवॉर्ड्स मिले हैं. Bong Joon-ho के डायरेक्‍शन में बनी इस फिल्‍म को ‘बेस्ट ओरिजनल स्क्रीनप्ले’, ‘बेस्ट डायरेक्टर’ और ‘बेस्ट इंटरनेशनल फीचर’ कैटिगरी में भी ऑस्कर मिला है. ‘पैरासाइट’ पहली एशियन फिल्म है जिसे इस प्रतिष्ठित अवॉर्ड से नवाजा गया है. इस फिल्‍म का प्रीमियर 2019 के कान फिल्‍म फेस्‍ट‍िवल में भी हुआ था. इस फिल्‍म ने साउथ कोरिया में 167.6 मिलियन डॉलर का कारोबार किया है.

इससे पहले विदेशी भाषा वाली फिल्में ऑस्कर में बहुत ज्यादा सफल नहीं रही हैं. इससे पहले ‘डिवोर्स इटालियन स्टाइल’, ‘अ मैन एंड ए वुमन’ और ‘टॉक टू हर’ जैसी फिल्में भी ऑस्कर अपने नाम कर चुकी हैं.

पैरासाइट’ की कहानी कोरिया में रहने वाले एक गरीब और एक उच्च वर्गीय परिवार की है. पैरासाइट एक ब्लैक कॉमेडी है, जिसमें सोशल स्टेट्स के साथ ही अध‍िक की चाहत और विलासपूर्ण जीवन के बीच के अंतर को खूबसूरती से दिखाया गया है. पढ़‍िए फिल्‍म की पूरी कहानी-

किम परिवार एक छोटे से सेमी-बेसमेंट अपार्टमेंट में रहता है. परिवार में पिता की टेक हैं. मां चुंग सूक, बेटी की जोंग और बेटा की वू. परिवार के सभी चार लोग टेम्‍पररी जॉब्‍स करते हैं. आमदनी कम है. एक दिन डिनर करते वक्‍त उनके घर Min-hyuk आता हैं. वह की-वू का अच्‍छा दोस्‍त है. Min-hyuk विदेश पढ़ने जाने की तैयारी कर रहा है. डिनर के बाद की-वू और मिन ड्रिंक के लिए बाहर जाते हैं. मिन यहां की-वू से कहता है कि उसे एक पड़ोस के अमीर पार्क फैमिली के यहां नौकरी करनी चाहिए. उन्‍हें बेटी को पढ़ाने के लिए ट्यूटर की जरूरत है.

READ  क्या किया दीपिका ने जब डांस के दौरान रणवीर की पैंट फट गई

मिन कहता है कि वह यूनिवर्सिटी के किसी और दोस्‍त पर भरोसा नहीं कर सकता और इसलिए यह जिम्‍मेदारी की-वू को सौंपना चाहता है. पार्क फैमिली अपनी बेटी Da-hye के लिए किसी यूनिवर्सिटी स्‍टूडेंट पर ही भरोसा करेगी. कहानी में दिलचस्‍प मोड़ आता है और किम परिवार के सभी चार सदस्‍य धीरे-धीरे पार्क फैमिली में नौकरी के लिए जुगाड़ निकालने लगते हैं. ये चारों खुद को हाइली क्‍वालिफाइड बताते हैं, जो कि झूठ है. की-वू ट्यूटर बन जाता है. वह Da-hye से रोमांस भी करने लगता है.

की-वू की बहन की जोंग खुद को आर्ट थेरेपिस्‍ट बताकर नौकरी पा लेती है. वह पार्क फैमिली के बेटे दा सोंग की थेरेपिस्‍ट बन जाती है, जो थोड़ा अजीब और अस्‍थ‍िर है. की जोंग मिस्‍टर पार्क की कार की पिछली सीट में अपना अंडरवि‍यर रख देती है. की जोंग पार्क से यह कहकर ड्राइवर को निकलवा देती है कि वह कार की पिछली सीट पर किसी लड़की के साथ शरीरिक संबंध बना रहा था. की-वू के पिता की टेक घर में ड्राइवर बनकर आ जाते हैं. मां चुंग सूक हाउसकीपर के तौर पर पार्क फैमिली को जॉइन करती है. इस तरह पूरा किम परिवार, मिस्‍टर पार्क के यहां नौकरी करने लगता है.

इस बीच पार्क फैमिली एक कैम्‍प‍िंग ट्र‍िप प्‍लान करती है और छुट्टियों पर चली जाती है. किम परिवार अब लग्‍जरी सुविधाओं से सजे बड़े से घर में अकेला है. पार्क फैमिली के जाते ही घर की पुरानी हाउसकीपर मून गवांग सामने आ जाती है. वह खुलासा करती है कि घर में एक छिपा हुआ रास्‍ता है, जो घर के नीचे बने एक बंकर में पहुंचता जाता है. मून किम के परिवार को बताती है कि वह और उसका पति 4 साल तक उस बेसमेंट वाले घर में छ‍िपकर रहे हैं, क्‍योंकि कर्जदार उन्‍हें परेशान कर रहे थे.

READ  सुशांत सिंह राजपूत की अंतिम यात्रा में शामिल रहे ये लोग, जानिए पुलिस की जांच रिपोर्ट क्या कहती है

इस बीच मौसम खराब होने की वजह से पार्क परिवार जल्‍द ही छुट्टियों से लौट आता है. लेकिन इस बीच मून और उसके पति की किम परिवार से लड़ाई हो रही है. किम परिवार के चारों सदस्‍य दोनों पति-पत्‍नी को घायल कर देते हैं और बांधकर बेसमेंट में बंद कर आते हैं. मिस्‍टर पार्क और उनकी फैमिली घर लौटती है. चुंग सूक खाना पकाती है और डिनर सर्व करती है. इस दौरान वह बताते हैं कि उनके बेटे दा सोंग ने कुछ साल पहले एक भूत देखा था, जिसके बाद से वह अजीब बर्ताव करने लगा है.

शहर में आंधी और बाढ़ आती है. पूरा घर पानी से भर जाता है. पार्क घर की हालत के लिए सबको फटकार लगाते हैं. स्‍थ‍िति नियंत्रण में आने के बाद मिस्‍टर पार्क अपने बेटे के जन्‍मदिन पर पार्टी की घोषणा करते हैं. किम परिवार के चारों लोग भी पार्टी में मौजूद हैं. इस दौरान की-वू घर के नीचे बने बंकर में जाता है. लेकिन देखता है कि मून की मौत हो चुकी है. मून का पति Geun-sae की-वू पर हमला करता है और वहां से भाग निकलता है.

Geun-sae अपनी पत्‍नी की मौत का बदला लेना चाहता है और रसाई में रखे चाकू से की जोंग के सीने में सब के सामने खंजर घोंप देता है. अफरा-तफरी मच जाती है. इस माहौल में की टेक भी मिस्‍टर पार्क से गुस्‍सा है. वह लगातार श‍िकायतों से परेशान है और मिस्‍टर पार्क का खून कर देता है.

अब कुछ हफ्तों बाद की कहानी दिखाई जाती है. की-वू अब ठीक है. वह मून के पति के हमले की वजह से कोमा में चला गया था. की-वू और उसकी मां पर फ्रॉड का आरोप लगा है. जबकि उसकी बहन की जोंग घायल होने और चोट लगने की वजह से मर गई है. पिता की टेक पर मिस्‍टर पार्क के खून का इल्‍जाम है और वह फरार है.

READ  एक साथ 50 देशों में रिलीज होगी पैडमैन

मिस्‍टर पार्क का घर एक जर्मन परिवार को बेच दिया गया है. की-वू को उसके फरार पिता का संदेश मिलता है. की टेक ने मेसेज में लिखा है कि वह अभी भी उसी बंकर में छ‍िपकर रह रहा है. की-वू अपने पिता को चिट्ठी लिखता है कि एक दिन वह खूब पैसे कमाएगा और यह आलीशान बंगला खरीदेगा. वह वादा करता है कि एक दिन परिवार को मिलाकर रहेगा.

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
Do NOT follow this link or you will be banned from the site! © Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: