कच्चे धागों से बनी पक्की डोर है राखी

Spread the love

भाई-बहन के प्रेम का त्योहार रक्षा बंधन श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस बार यह 26 अगस्त रविवार के दिन है। ज्योतिष के अनुसार इस बार रक्षा बंधन पर भद्रा नहीं हैं। यही नहीं इस बार करीब 11 घंटे तक राखी बांधने का मुहूर्त है। दरअसल ज्योतिष के मुताबिक इस बार भद्रा नक्षत्र सूर्योदय से पहले ही खत्म हो रही है। इसलिए राखी बांधने के समय भद्रा नहीं रहेगा। ज्योतिष के मुताबिक भद्रा में राखी नहीं बांधी जाती। इस बार बहने शाम 5 बजकर 12 मिनट तक राखी बांध सकती हैं। ज्योतिष के अनुसार रक्षा बंधन के दिन थाली सजाकर भाई की आरती उतारनी चाहिए। इस मंत्र के साथ रक्षा बंधन मनाई जाती है।
भाई-बहन के प्रेम का ये त्योहार बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस दिन एक और जहां बहनें अपने भाई की लंबी उम्र की कामना करती हैं वहीं भाई भी उनकी रक्षा करने का वचन देता है। यहां जानें इस विधि के बारे में-

– बहनें अपनी राखी की थाली में रोली, कुमकुम, चावल, पीली सरसों के बीज, दीपक, मिठाई और राखी रखें। थाली अगर सुंदर हो तो और भी अच्छा है।
– भाई को सबसे पहले टीका लगाएं। चावल लगाएं। भौहों के बीच का भाग अग्नि चक्र कहलाता है और वहां तिलक लगाने से पूरे शरीर में शक्ति का संचार होता है और व्यक्ति का आत्मविश्वास बढ़ता है। उसके बाद उसके दाहिने हाथ में राखी बांधें।
– राखी बांधने के बाद भाई की आरती उतारें।
– आरती के बाद भाई को उसकी पसंदीदा मिठाई खिलाएं।
– भाई बड़ा है तो पैर छूकर आशीर्वाद ले सकते हैं और अगर बहन बड़ी है तो भाई उसके पैर छूकर आशीर्वाद ले सकते हैं।
– भाई इस मौके पर अपनी बहन को उसका पसंदीदा गिफ्ट दे।

READ  चंद्र ग्रहण 2018: देखने के लिए नहीं होगी चश्मे की जरूरत

राखी बांधने का शुभ मुहूर्त
26 अगस्त के दिन शाम 4:30 से 6 बजे तक राहुकाल रहेगा। इस समय अवधि के अलावा किसी भी समय राखी बांधी जा सकेगी।

मंत्र
येन बद्धो बलि: राजा दानवेंद्रो महाबल:।
तेन त्वामपि बध्नामि रक्षे मा चल मा चल।

अर्थ
जिस रक्षासूत्र से महान शक्तिशाली राजा बलि को बांधा गया था, उसी सूत्र से मैं तुम्हें बांधता हूं। हे रक्षे (राखी), तुम अडिग रहना। अपने रक्षा के संकल्प से कभी भी विचलित मत होना।

[amazon_link asins=’B01LB3OKL4,B073MFGJHP,B071CMQ6N2,B00QNMVU6C’ template=’ProductGrid’ store=’wordtoword-21′ marketplace=’IN’ link_id=’c66e8dc7-a77b-11e8-aee2-c395a71875fd’]

रक्षाबंधन को राखी, कजली आदि नामों से जाना जाता है। इस त्यौहार को लेकर देश अलग-अलग भागों में अलग अलग मान्यताएं हैं। इस मौके पर अपनों को शुभकामना संदेश भेजने का भी चलन है। लोग फेसबुक पर या वॉट्सएप स्टेटस पर पोस्ट या रक्षबंधन से जुड़े शुभकामना संदेश शेयर कर रहे हैं। इसी को देखते हुए हम आपके लिए कुछ चुनिंदा शुभकामना संदेश यहां लेकर आए हैं जिनसे आप अपनों शुभकामनाएं दे सकते हैं –

साथ पले और साथ बढ़े हैं हम,
खूब मिला बचपन में प्यार,
इसी प्यार को याद दिलाने
आया ये राखी का त्यौहार।।
– रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं

चंदन का टीका औ रेशम का धागा,
सावन की सुगंध औ बारिश की फुहार,
भाई की उम्मीद और बहन का प्यार,
मुबारक हो रक्षाबंधन का त्यौहार।।

बहन का प्यार किसी दुआ से कम नहीं होता,
वो चाहे दूर भी हो तो गम नहीं होता,
माना कि रिश्ते दूरियों से फीके पड़ जाते हैं,

लेकिन भाई-बहन का प्यार कभी कम नहीं होता।।

भगवान हर जगह नहीं हो सकते,
इसलिए उन्होंने मां को बनाया
और मां हर वक्त हमारे साथ नहीं हो सकती,
इसीलिए भगवान ने बहन को बनाया।।

कच्चे धागों से बनी पक्की डोर है राखी,
प्यार और मीठी शरारतों की होड़ है राखी,
भाई की लम्बी उम्र की दुआ है राखी,
बहने के पवित्र प्यार की दुआ है राखी।।

 

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
© Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: