एक साथ मिले हजारों ब्लैक होल

Spread the love

एक साथ हजारों ब्लैक होल, वैज्ञानिक अब तक इससे इंकार करते आये थे. लेकिन अब एक तारामंडल में आस पास मौजूद हजारों ब्लैक होल मिले हैं. वैज्ञानिकों ने तारों के एक बहुत बड़े समूह ग्लोबुलर क्लस्टर की खोज की है. वैज्ञानिकों के मुताबिक उस ग्लोबलुर क्लस्टर के पीछे हजारों ब्लैक होल हैं. अपनी आकाशगंगा के केंद्र के करीब चक्कर काटने वाले तारों के समूह को ग्लोबुलर क्लस्टर कहा जाता है. ये तारे बेहद शक्तिशाली आपसी गुरुत्व बल के चलते एक समूह में रहते हैं. ताकतवर कंप्यूटर सिम्युलेशन के जरिये वैज्ञानिकों ने ये ब्लैक होल खोज निकाले.

ब्लैक होलों को दूरबीन से देखना मुमकिन नहीं है क्योंकि कोई भी फोटॉन (प्रकाश का कण) उनसे बच नहीं पाता. ऐसे में ब्लैक होलों का पता लगाने के लिए आस पास के इलाके में उनका गुरुत्वाकर्षण प्रभाव आंका गया. शोध और सिम्युलेशन के जरिये उनकी स्थिति और उनके असर के बारे में कई सटीक संकेत मिले हैं.

क्या है ग्लोबुलर क्लस्टर

ग्लोबुलर क्लस्टर NGC 6101m की खोज 2013 में हुई. खगोलविज्ञान की प्रतिष्ठित पत्रिका रॉयल एस्ट्रोनॉमिकल सोसाइटी में यह रिसर्च प्रकाशित हुई है. इससे तारों और ब्लैक होल के रिश्ते के बारे में बुनियादी सवालों के जबाव मिल सकेंगे. इससे यह साफ करने में भी मदद मिलेगी कि जहां ब्लैक होल आपस में मिलते हैं वहां ग्लोबुलर क्लस्टर्स बनते हैं. NGC 6101m के ज्यादातर ब्लैकहोल सूर्य से भी बड़े हैं. वैज्ञानिकों के मुताबिक यह ग्लोबुलर क्लस्टर 13 अरब साल से लगातार बदल रहा है. कोई बड़ा तारा जब बूढ़ा होकर अपने ही गुरुत्वबल के चलते ध्वस्त हो जाता है तो अद्भुत घटनाएं होती हैं. कुछ मामलों में ब्लैक होल का निर्माण होता है.यह खोज यह भी बता सकेगी कि ब्रह्मांड में ब्लैक होल कैसे छुपे रहते हैं.

READ  आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर ने बताया जसप्रीत बुमराह की गेंदबाजी के पीछे का रॉकेट साइंस

[amazon_link asins=’B075FY4RWK,B07417987C,B0785JJF7L,B01B51Z58O’ template=’ProductGrid’ store=’wordtoword-21′ marketplace=’IN’ link_id=’611d900a-8f21-11e8-ac27-493824a3e3c8′]

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
© Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: