मार्स पर मिले एलियन के होने के सबूत

Spread the love

अब तक ऐसा माना जाता रहा है कि पृथ्वी के बाहर भी कहीं जीवन है और हमारी धरती पर जीवन के बीज वहीं से आये हैं. ऐसा अब तक सैकड़ों फिल्म्स में दिखाया जा चुका है. बड़े-बड़े फिक्शनल राइटर्स ने भी इस थ्योरी को भुनाने में कोई कसर नहीं छोडी है. असल में इस थ्योरी की वजह धरती पर बड़े बड़े साइंटिफिक स्ट्रक्चर्स, पिरामिड्स, फ़राओ द्वारा निर्मित और भी कई इजिप्शियन स्ट्रक्चर्स आदि के कारण हैं जो आज भी अपने अन्दर कई रहस्य समेटे हुए हैं. यहाँ तक कि इन थ्योरी को देने वाले लोगों ने यह भी मान लिया कि फ़राओ इस धरती के थे ही नहीं. वे किसी अन्य ग्रह के रहने वाले थे और उन्होंने ही धरती पर अपनी ये निशानियाँ छोडी हैं. हालांकि अब तक इस बात के कोई ठोस प्रमाण वैज्ञानिकों को नहीं मिले हैं न ही वे धरती के अलावा किसी अन्य जगह पर जीवन की तलाश में सफल हो पाए हैं. लेकिन अब नासा को कुछ ऐसा मिला है जिससे ये दावे सच होते से लग रहे हैं.


नासा के क्युरियोसिटी रोवर ने मंगल ग्रह से जो तस्वीरें भेजी हैं उसमें एक इजिप्शियन औरत की आकृति साफ़ साफ़ नजर आ रही है. यह खोज नासा के ही वैज्ञानिक ‘जो व्हाईट’ ने की है किसी अन्य तस्वीरों की ही तरह यह तस्वीर भी रोवर के द्वारा भेजी गयी थी जिसमें चमकते चट्टानों को देखकर जो को हैरानी हुई और उन्होंने बारीकी से उसका निरिक्षण शुरू किया गौर से देखने पर यह चट्टान बिलकुल किसी महिला इजिप्शियन योद्धा की मूर्ती के सिर के जैसी लग रही थी जो शायद काफी पहले टूट कर यहाँ गिरी होगी. हालांकि अभी इसके बारे में नासा ने स्पष्ट रूप से कुछ नहीं कहा है लेकिन इन तस्वीरों ने दुनिया भर में एलियन के वजूद पर बहस जरूर तेज कर दी है. लोग इसे एलियन के होने का सबसे पक्का सबूत मान रहे हैं.
अब मार्स पर वाकई एलियन है या नहीं इस बात का पता तो वैज्ञानिक लगा ही लेंगे. यह भी हो सकता है कि अह महज आँखों का एक धोखा हो. यह किसी मूर्ती का सर न होकर केवल एक चट्टान हो जो दूर से देखने पर एक मूरत के जैसी दिखती है. ठीक वैसे ही जैसे बादलों के बीच हमें कई बार तरह तरह की आकृतियाँ दिखाई दे जाती हैं.

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
Do NOT follow this link or you will be banned from the site! © Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: