जो आज बहार है कभी पतझड़ था वो…

Spread the love

शैलेन्द्र ‘उज्जैनी’ [email protected]

हर एक बात पर इतना क्यों अकड़ रहा है वो,

 टूटा हुआ है अंदर से ज़र्रा-ज़र्रा झड़ रहा है वो।

 *************

 इतनी गहराई से कहाँ पढ़ते हैं किसी को लोग,

 मेरी ग़ज़ल के पीछे की ग़ज़ल भी पढ़ रहा है वो।

*************

 जिस लोहे से तुमने हथियार बनाए हैं ना यारो,

 उसी लोहे से बैठा ख़ुदा की मूरत गढ रहा है वो।

*************

 उसकी मुस्कुराहट देखकर महसूस होता तो है,

 जो आज बहार है कभी पतझड़ रहा है वो…।

*************

 लगता है घर का माहौल कुछ ठीक नहीं उसके,

 राह चलते बात-बात पर झगड़ रहा है वो…।

*************

 शाम का वक्त है ख्यालों के दरिया किनारे होगा,

 वो देखो “उज्जैनी” नया विचार पकड़ रहा है वो।

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
READ  नारी: तुमसे ही है जीवन गाथा
© Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: