हनुमान जयंती 2018: बजरंगबली हरेंगे हर कष्ट, ऐसे करें पूजा

Spread the love

हनुमान जी का जन्मोत्सव शनिवार को है। नौ साल बाद शनिवार के दिन हनुमान जयंती पड़ रही है। इसके साथ ही कई मंगलकारी योग बन रहे हैं। काफी समय बाद मार्च के माह में ही हनुमान जयंती पड़ रही है। चूंकि इस नवसंवत्सर के राजा सूर्य और मंत्री शनि हैं, इसलिए भी हनुमान जयंती खास है। ग्रहों की पीड़ा शांत करने का यह विशेष अवसर है।

प्रात: 4 बजे हुआ था हनुमान जी का जन्म
हनुमान जयंती- चैत्र मास की पूर्णिमा के दिन ब्रह्म मुहूर्त यानी प्रात: 4 बजे अंजनी के गर्भ से हनुमान जी का जन्म हुआ था। इनके पिता हैं वानरराज केसरी। इसलिए, इनको केसरीनंदन भी कहते हैं। रामभक्त के रूप में हनुमानजी को तो सभी जानते हैं। लेकिन उनकी अन्य भी विशेषताएं हैं। वह समस्त वेदों के ज्ञाता, नाना पुराण आख्याता, ज्योतिषी, संगीतज्ञ, वानरराज, यंत्र-मंत्र और तँत्र के सिद्धहस्त होने के साथ-साथ संकटमोचन भी हैं। अकेले उनको ही यह वरदान प्राप्त है कि वह समस्त संकट हर सकते हैं। सर्व कार्य सिद्ध कर सकते हैं। वह सूर्य के शिष्य हैं। सूर्य भगवान का जप-तप-ध्यान करने से ही उनको असाधारण सिद्धियां और निधियां प्राप्त हुईं। अणिमा,( आकार बढ़ा सकते हैं) लघिमा ( आकार छोटा कर सकते हैं) गरिमा ( भारी कर सकते हैं), प्राप्ति ( कुछ भी प्राप्त कर सकते हैं), प्राकाम्य ( सर्व प्रदाता), महिमा( यश-कीर्ति), ईशित्व (ईशरत्व) और वशित्व( वशीकरण) का अधिकार केवल हनुमानजी को ही प्राप्त है। तभी उनको कहा गया-अष्ट सिद्धि-नौ निधियों के दाता।

पूजा मुहूर्त

30 मार्च 2018 शाम 7 बजकर 35 मिनट 30 सेकेंड से 31 मार्च 2018 शाम 6 बजकर 6 मिनट 40 सेकेंड तक रहेगी। शुभ मुहूर्त प्रातः 9:20 से 1:30 तक तथा सांय 3:00 से 6 बजे तक रहेगा। ग्रहों की शांति के लिए सायंकाल का पूजन श्रेष्ठ रहेगा। हनुमान जी की गुरु के रूप में पूजा का समय 9.20 से है।

READ  फेसबुक के नए फीचर से चुनें सिर्फ अपनी पसंद के पोस्ट

इसलिए, चढ़ता है सिंदूर
हनुमान जी ने एक बार सीता जी से पूछा कि आप सिंदूर क्यों लगाती हैं ? सीता जी ने जवाब दिया कि राम की दीर्घायु के लिए। बस, रामभक्त हनुमान जी ने अपने पूरे शरीर पर ही सिंदूर लगा लिया। हनुमान जी के जन्मद‌िन के मौके पर रात्रि के समय हनुमान जी की पूजा करने से हनुमान जी की कृपा प्राप्त होती है. हनुमानजी के जन्मदिन पर घी में चुटकी भर स‌िंदूर म‌िलाकर हनुमान जी को लेप लगाएं। इससे शनि और राहू का दोष समाप्त होता है। गृहस्थजन शंकरजी के रुद्रावतार के रूप में, व्यापारियों को पवनपुत्र के रूप में, विद्यार्थियों को हनुमान के रूप में, स्त्रियों को अंजनीपुत्र के रूप में, नौकरीपेशा वालों को मंगलमूरति के रूप में, खिलाड़ियों और सैन्य सेवा में रहने वालों को बजरंगबली के रूप में पूजना चाहिए। हनुमान जी को गुरु रूप में पूजने से सर्वग्रह शांति हो जाती है।

कैसे करें पूजा
-हनुमान जी को चोला चढ़ाएं ( चोले में 16आइटम होते हैं- चोला या वस्त्र, धूप, दीप, अगरबत्ती, पान, नारियल, पंच मेवा, सिंदूर, चमेली का तेल, चांदी के बर्क, बेसन के लड्डू या बूंदी, जनेऊ, पांच सुपारी, लोंग, फूलमाला और फल)
-शनि शांति के लिए सरसो के तेल का दीपक जलाएं। सिंदूर चढ़ाएं
-पीपल के 108 पत्तों पर रामनाम लिखकर हनुमानजी को अर्पित करें। इससे पितृदोष निवारण होगा।
-कार्य सिद्धि के लिए ऊं श्री हनुमते नम: या ऊं हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट का 108 बार जाप करें
– सर्व कार्य सिद्धि के लिए 11 या 21 बार हनुमान चालीसा का पाठ करें
-समस्त ग्रह पीड़ा शांति के लिए ऊं ह्रां ह्रीं ह्रूं सर्वदुष्ट ग्रह निवारणाय स्वाहा का जाप करें
-शनिवार को सुंदरकांड का पाठ करें। संपूर्ण न कर सकें तो केवल मंगलाचरण ही कर लें। सुंदरकांड की पांचवीं चौपाई पढ़ें।
-समस्त प्रकार की रक्षा के लिए हनुमान कवच का पाठ करें
-व्याधियों से मुक्ति के लिए हनुमान बाहुक और अन्य संकट निवारण के लिए तीन बार बजरंगबाण पढ़ें।

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
© Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: