8 अत्याधुनिक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर एक नज़र

Spread the love

यहाँ हम जिन हवाई अड्डों के बारे में बात कर रहे हैं उनकी सालाना यात्री क्षमता लाखों में नहीं करोड़ों में है. इनका आर्किटेक्चर मंत्रमुग्ध कर देने वाला है और यहाँ मिलने वाली सुविधाएं अत्याधुनिक हैं.

सिंगापुर का चांगी एयरपोर्ट


इसके आर्किटेक्ट हैं मॉंट्रियल में मशहूर हैबिटाट 67 हाउसिंग कॉम्पलैक्स को डिज़ाइन करने वाले मोशे सेफ्डी.
इसका निर्माण दिसंबर 2014 में शुरू हुआ. इसमें फॉरेस्ट वैली, ज्वैल गार्डन और 130 फ़ुट ऊंचा झरना होगा. इसके अलावा 1.34 लाख वर्ग मीटर शीशे के गुंबद में कई प्रकार के पेड़ भी होंगे. इसका निर्माण 2018 में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है. यात्री ज्वैल कॉम्पलैक्स से होकर मौजूदा टर्मिनल्स तक पहुंचेंगे. इसके साथ ही होंगी शॉपिंग और खाने-पीने की दुकानें.

मेक्सिको सिटी इंटरनेशनल एयरपोर्ट

सितंबर 2014 में ब्रिटेन की आर्किटेक्चर कंपनी फ़ोस्टर एंड पार्टनर्स को इसे डिजाइन करने का ठेका मिला. साल 2018 में जब यह बनकर तैयार होगा तो दुनिया का सबसे बड़ा हवाई अड्डा होगा. लगभग 5.55 लाख वर्गमीटर क्षेत्र में फैले इस हवाई अड्डे के लिए ढाँचा पहले से तैयार किया गया है. नई इमारत में सौर ऊर्जा का पर्याप्त इस्तेमाल होगा.

मुंबई का छत्रपति शिवाजी इंटरनेशनल एयरपोर्ट


इस एयरपोर्ट का डिज़ाइन मयूरपंख की आकृति का है. यह भारत का सबसे आधुनिक और भव्य एयरपोर्ट टर्मिनल है. इसका उद्घाटन फ़रवरी 2014 में हुआ था. इस एयरपोर्ट के नए टर्मिनल में गार्डन और फाउंटेन के साथ मल्टीलेवल कार पार्किंग भी है.

चीन में शेनझेन बाइयुन इंटरनेशनल एयरपोर्ट


तकनीक और इन्फ्रास्ट्रक्चर के मामले में चेइन हमेशा से आगे रहता आया है. ऐसे में इस मामले में भी उससे कुछ अलग की ही उम्मीद थी. मधुमक्खी के छत्ते की आकृति के इस एयरपोर्ट का उद्घाटन साल 2013 के आख़िरी में हुआ. स्टूडियो फ़ुकसास ने इसे डिजाइन किया था. आर्किटेक्ट्स इस डिज़ाइन की कुछ इस तरह व्याख्या करते हैं, “एक मछली जो सांस लेती है और अपनी बाहरी रचना बदलती रहती है, भावनाओं का जश्न मनाने के लिए पक्षी का रूप ले लेती है.” टर्मिनल के अंदर की साज-सज्जा तो और भी बेहतरीन है.

READ  रोज हरी सब्जी में आलू डालकर पकाते हैं तो उसके नुकसान भी जान लीजिये

चीन में चोंगकिंग जियांगबेई इंटरनेशनल एयरपोर्ट

इस कड़ी में चीन का ही एक और एयरपोर्ट शामिल है. आर्किटेक्चर डिज़ाइन कंपनी एडीपीआई ने एयरपोर्ट के नए टर्मिनल की अपनी योजना में हरियाली का भरपूर खयाल रखा है. इसके दो हिस्से चोंककिंग की दो नदियों का प्रतिरूप हैं. इसका ढांचा पार्क के बीचों-बीच खड़ा किया गया है. पूरा हो जाने के बाद इस टर्मिनल की सालाना क्षमता 5.5 करोड़ यात्रियों की होगी. इसे दुनिया के 15 सबसे बड़े हवाई अड्डों में शुमार किया गया है.

रूस का पुलकोवो इंटरनेशनल एयरपोर्ट

सेंट पीटर्सबर्ग स्थित इस एयरपोर्ट को ग्रीमशॉ आर्किटेक्ट्स ने डिजाइन किया है. अंदर से देखने पर इसके मेटल पैनल शहर के चर्चों के रपटीले घुमावदार डिजाइनों की याद दिलाते हैं. इसे फ़रवरी 2014 में यात्रियों के लिए खोला गया था. अभी इसके दूसरे और तीसरे चरण का काम पूरा होना बाक़ी है. निर्माण पूरा होने पर हवाई अड्डे की सालाना क्षमता 1.7 करोड़ यात्रियों की होगी.

तुर्की में इस्तांबुल का नया एयरपोर्ट

ग्रीमशॉ और उनकी टीम को इस्तांबुल में छह रनवे का एयरपोर्ट 2019 तक तैयार करना है. इस हवाई अड्डे की शुरुआती सालाना क्षमता 9 करोड़ यात्रियों की होगी. एक बार पूरा होने के बाद हवाई अड्डे की क्षमता बढ़ाकर 15 करोड़ यात्री करने की योजना है. आर्किटेक्ट्स का कहना है, “यह एक छत के नीचे दुनिया का सबसे बड़ा हवाई अड्डा होगा.” ग्रीमशॉ के साथ मिलकर काम कर रहे हेप्टिक के निदेशक टॉमस स्टोकी का दावा है, “हमने स्थानीय रंगों और पैटर्न से प्रेरणा ली है. तुर्की के परंपरागत आर्किटेक्चर को भी ध्यान में रखा गया है.”

READ  घर पर करें गोल्ड फेशियल, चेहरे पर आएगा सोने सा निखार

जापान का माउंट फ़ुजी शिज़ुओका एयरपोर्ट


माउंट फ़ुजी की तलहटी में ये हवाई अड्डा शिगेरु बान के डिज़ाइन पर बन रहा है. पहाड़ों से घिरे इस एयरपोर्ट पर यहां के चाय बागानों की भी कुछ झलक देखने को मिलेगी. साथ ही जापान की परंपरागत वास्तुकला को भी इसमें शामिल किया जाएगा.

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
Do NOT follow this link or you will be banned from the site! © Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: