बिना इंधन के चलेगा यह जेनरेटर

Spread the love

ईधन के बिना घरों में एलईडी चमकेगी और पंखे भी चलेंगे साथ ही ट्यूबवेल से सिंचाई भी हो सकेगी। आने वाले दिनों में इससे सड़कों पर कार और बाइकें भी दौड़ेंगी। इस सपने को हकीकत में बदल दिया है 9वीं पास पीएम वाघानी ने। उन्होंने एक ऐसा फार्मूला खोज निकाला है जिससे यह सब बिना ईधन के हो सकेगा। वाघानी ने 5 एचपी का एक जनरेटर तैयार किया है। इसकी लागत महज 20 हजार रुपये है जबकि इतने पावर का जनरेटर 60 हजार से अधिक कीमत का मिलता है। वे जल्द अपने इसे जनरेटर को कॉमर्शियल प्रयोग के लिए उतारेंगे। इससे चार व्यक्ति के परिवार वाले घर का बिजली आपूर्ति आसानी से हो जाएगी।

एक हादसे ने दी कुछ नया करने की प्रेरणा
गुजरात के भाव नगर के पीएम वाघानी के पड़ोस के परिवार में करीब 15 साल पहले शादी के दौरान करंट लगने से इकलौते लड़के की मौत हो गई। हादसे से उन्हें गहरा सदमा लगा। उन्होंने प्रण लिया कि ऐसी तकनीक विकसित करेंगे जिससे बिजली तो आए लेकिन करंट न लगे। उनके परिवार में शुरू से ही बिजली के उपकरण बनाने का काम था। पांच साल जूझने के बाद उन्होंने फ़ॉर्मूला खोज निकाला, जिसपर उन्होंने 10 सालों तक काम किया। अपनी वर्कशॉप में सफल प्रयोग के बाद अब उन्होने इसका फायदा लोगों तक पहुंचाने का बीड़ा उठाया है।

मैग्नेट और कैपेस्टर से बना है यह जेनरेटर
वाघानी ने करीब 10 साल पहले एक ऐसा फॉर्मूला तैयार किया जो बिना ईधन के बिजली सप्लाई करता है। उन्होंने इसे बनाने के लिए एक एचपी की मोटर का प्रयोग किया। जिसे चलाने के लिए उन्होंने रस्सी का सहारा लिया। इसे उन्होंने अपने फॉर्मूले से जोड़ दिया। यह फॉर्मूला सिर्फ मैग्नेट और कैपेस्टर से तैयार किया गया। इस पूरी प्रक्रिया के बाद 6 एचपी की बिजली तैयार हुई। इसमें 1 एचपी की बिजली को रीसाइकिल प्रक्रिया के लिए रखा गया। वाघानी एनर्जी लिमिटेड के चीफ एक्जक्यूटिव ऑफिसर और शहर के मंगला विहार में रहने वाले अनिल उत्तम ने बताया कि जल्द यह जेनरेटर लोगों के उपयोग के लिए बाजार में उपलब्ध होगा। इसका उपयोग कर कार और बाइक भी चल सकेंगी। इस जनरेटर का ट्रायल पिछले कई सालों से चल रहा है।

READ  शादी करना चाहती है यह ह्यूमनॉयड


न मारेगा करंट और न होगा शार्ट-सर्किट
अनिल ने बताया कि यह जेनरेटर सभी खतरों से मुक्त है। इसमें तार पकड़ने के बावजूद करंट लगने जैसी कोई संभावना नहीं है। साथ ही यह पूरी तरह शार्ट-सर्किट प्रूफ है। इससे आए दिन होने वाले हादसे भी पूरी तरह रुकेंगे। यह जेनरेटर न सिर्फ बिजली की बचत करेगा बल्कि चोरी से भी मुक्त रहेगा। अनिल ने बताया कि इस जेनरेटर को निर्धारित जगह में सेट किया जाता है। इसे अगर दो से तीन फीट भी हिलाया गया तो यह लॉक हो जाता है। इसके बाद जेनरेटर का कोई प्रयोग नहीं होता है। यह जेनरेटर काफी दूर बैठ कर भी चालू-बंद किया जा सकेगा। यह जीपीएस से जुड़ा रहेगा। इससे अगर भूलवश जेनरेटर चालू छूट जाए या इससे जुड़ा कोई उपकरण चलता रह जाए तो कहीं से भी उसे बंद किया जा सकेगा।

प्रोजेक्ट का कराया नेशनल पेटेंट
अनिल ने बताया कि इस फॉर्मूले का नाम वाघानी पावर हाउस रखा गया है। इसका नेशनल पेटेंट भी हो गया है। जल्द यह फॉर्मूला लोगों के लिए बाजार में भी उपलब्ध होगा। उन्होंने बताया कि इसका प्रदर्शन इसी माह कानपुर में किया जाएगा। लोगों की आवश्यकता के अनुसार ऐसे ही अधिक क्षमता वाले जेनरेटर भी तैयार होंगे।

कार-बाइक चलाने का चल रहा ट्रायल
अनिल ने बताया कि बिजली उत्पन्न करने का ट्रायल पूरा हो चुका है। जल्द बिना ईधन वाला यह जनरेटर लोगों के प्रयोग के लिए बाजार में उपलब्ध कराने की तैयारी में है। कार और बाइक को भी बिना ईधन तैयार इंजन से चलाने का ट्रायल गुजरात में बनी कार्यशाला में चल रहा है। जल्द इसे भी कामर्शियल प्रयोग के लिए बाजार में उतारा जाएगा।
आईआईटी ने भी प्रोजेक्ट देखने की इच्छा जताई
एचबीटीयू में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग के प्रोफेसर डॉ. युद्धवीर सिंह ने बताया कि मैग्नेट और कैपेस्टर के जरिये बिजली का उत्पादन किया जा सकता है। इसमें बिजली स्टोर कर जेनरेटर की तरह कार्य कर सकता है। अगर इसे सही तरीके से मैनेज कर फॉर्मूला तैयार किया जाए तो जरूर बिजली उत्पन्न हो सकती है। आईआईटी के वैज्ञानिकों ने भी इस फॉर्मूले को देखने की इच्छा जताई है।

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
Do NOT follow this link or you will be banned from the site! © Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: