जानिये क्यों पीते हैं यहाँ के लोग ऊँट का पेशाब

Spread the love

 

अफ्रीकी देश युगांडा के कारामोजा इलाके में लोग ऊँट के सिर्फ दूध और मांस को ही नहीं बल्कि इसके पेशाब को भी बहुत गुणकारी मानते हैं. यहाँ के लोगों का मानना है कि ऊंट का पेशाब न सिर्फ स्वस्थ रहने में मदद करता है बल्कि इसे पीने से एचआईवी एड्स जैसी बीमारियों का भी इलाज किया जा सकता है. हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने लोगों से ऊंट के पेशाब से दूर रहने को कहा है. उसके मुताबिक इससे कोई बीमारी ठीक नहीं होती, बल्कि उल्टा बीमारियां लगने का खतरा है. लेकिन कारामोजा में बहुत से लोग इसे दवाई के तौर पर ही देखते हैं.

एक स्थानीय निवासी के मुताबिक़ “इस मूत्र को आप दिन में तीन बार पीजिए. सुबह को, दोपहर को और शाम को. अगर फिर भी (एड्स) के लक्षण दिखाई देते हैं तो चार महीने तक इसे लेते रहिए. फिर डॉक्टर के पास जाइए. अगर आपको मुंह में दर्द होता है, चिंता मत करिए वो जल्द ही चला जाएगा.”

दूसरी तरफ डब्ल्यूएचओ का कहना है कि ऊंट का मूत्र पीने से सांस संबंध बीमारी मर्स हो सकती है. इसलिए इसे किसी भी हालत में नहीं पीना चाहिए. हालांकि युगांडा की सरकार की तरफ से इस बारे में कुछ नहीं कहा गया है. ऐसे में, सस्ता इलाज चाहने वाले लोगों को इसमें एक उम्मीद दिखाई देती है.

सऊदी अरब में भी पिछले साल अधिकारियों ने ऊंट का पेशाब बेचने वाली एक दुकान को बंद कराया था. अधिकारियों को पता चला कि व्यक्ति ऊंट का नहीं बल्कि अपना पेशाब ही बोतलों में भर कर बेच रहा था. सऊदी शहर अलकुनफुदा में जब अधिकारियों को उसकी दुकान पर छापा मारा तो वहां से पेशाब की 70 बोलतें मिलीं.

READ  जान पायेंगे मन की बात

ऊंट का पेशाब पीने की परंपरा की शुरुआत इस्लामी धार्मिक किताब हदीस में एक उल्लेख से मानी जाती है. इसमें पैगंबर मोहम्मद के हवाले से लिखा गया है, “उल्क यानी उरैना कबीले के कुछ लोग मदीना आए तो यहां की जलवायु उन्हें रास नहीं आई. इसलिए मोहम्मद ने उनसे (दूध वाले) ऊंटों के झुंड में जाने और उनका दूध और (दवाई के रूप में) पेशाब पीने को कहा.” ऐसे ऊंट के पेशाब के गुणकारी होने की बात को जहां कई मुस्लिम विद्वान मानते हैं, वहीं इस पर सवाल उठाने वालों की भी कमी नहीं है.

ब्रह्म मुहूर्त में जागते थे श्रीराम, जानें फायदे ( Brahma muhurta ke Fayde) , देखें यह वीडियो


हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Spread the love
© Word To Word 2021 | Powered by Janta Web Solutions ®
%d bloggers like this: